Search This Blog

Friday, February 12, 2016

इक तेरे दीदार की आश -----

यादों की गलियों से रोज गुज़रते हैं
इक तेरे दीदार की आश में
शायद तुम पहचान लो हमें
दिल तमन्ना यही करता है !!!