Search This Blog

Monday, May 2, 2016

एक श्याम नाम का सहारा

मन की घोर झंझावातों से
छुटकारा मिल जाये
एक श्याम नाम का जब
सहारा मिल जाये

सागर में डोलती कश्ती को
किनारा मिल जाये
एक श्याम नाम का जब
सहारा मिल जाये

उस साँवले सलोने
की है गजब ही माया
तुम मीरा बन जाओ
वो श्याम दौड़ा आया
बिन माँगे कुछ अपना
गुज़ारा मिल जाये
एक श्याम नाम का जब
सहारा मिल जाये

मुरली की धुन प्यारी
ओ श्याम के पुजारी
राधा का नाम जप लो
हर लेंगीं दुख वो सारी
राधा के बिना कोई
धनश्याम नहीं पाये
एक श्याम नाम का जब
सहारा मिल जाये

दुख मे बहुत ना टूटो
सुख मे ना बहुत फुलो
जीवन है चार दिन का
कुछ नेकियाँ भी कर लो
ये सार ज़िंदगी का
जो समझे श्याम पाये
एक श्याम नाम का जब
सहारा मिल जाये!!