Search This Blog

Thursday, July 14, 2016

रात चाँद आया था

                                       

रात चाँद छत पे आया था
नज़रें  मिलाने के लिए
मैं गई थी छत पे भींगीं
जुल्फें सुखाने के लिए

बेखुदी मे उठ गये थे
ये कदम, ख़ुद ब ख़ुद
देखना था चाँद कैसे
बादलों के संग है गुम

छुप के नज़रें बचा के देखे
मुझे सताने के लिए
मैं गई थी छत पे,भींगीं
जुल्फें सुखाने के लिए

चेहरे पे थी शरारत उसके
कुछ कही कुछ अनकही
बेचैन था दिल,घबराया भी
कोई देख न ले मुझे यहाँ कहीं

थोड़ा-सा वो करीब आया था
बेक़रारी बढ़ाने के लिए
मैं गई थी छत पे भींगीं
जुल्फें सुखाने के लिए

कहने को थी ढ़ेरों बातें
लब मगर थे सिले-सिले
नाहीं इल्म था,ना वो उमर थी
सही-गलत बातें समझे

चाँद गुम गया फिर बादलों में
नई सुबह लाने के लिए
मैं गई थी छत पे भींगीं
जुल्फें सुखाने के लिए !!