Search This Blog

Wednesday, August 3, 2016

आदमी आदमी से

                                          

आदमी आदमी से जल रहा है
लोग कहते है मौसम बदल रहा है
अंदर मक्कारिया ऊपर भोलापन
ज़हर दिखता नहीं कितना पल रहा है

वो जो कहकर अपना गले लगा रहे हैं
उनके अंदर भी कुछ ना कुछ चल रहा है
संभल जायें अपनी राहें बनाने के लिए
कोई गिराकर ऊपर से निकल रहा है

एतबार का दामन  तारतार करके
पर्दे से बाहर आने को फ़रेब मचल रहा है
क़रीब आये है दिल में मुहब्बत लिये
अंदेशा है वहाँ बाजार कोई सँवर रहा है

जिससे पूछो अमन की चाह रखते है वो
मगर कोशिशे करने से मुकर रहा है
वो गूँज हँसी-ठहाकों की कही गुम हो गई
कुछ बची है जो लब पे आकर जम रहा है

चाँद का मज़हब जिक्र से पता चलता नहीं
ईद का है या करवाचौथ का सवाल लग रहा है
ज़िदगी की कौन सी रात आखिरी हो यार
चलो छोड़ो मिट्टी डालो नफरत पे
प्यार बाँटो किस आग में तू जल रहा है !!