Search This Blog

Thursday, March 23, 2017

ज़िंदगी का हरपल आख़िरी

वज्न-221 2122 221 2122
ग़ाम- कदम
                 इक़दाम- प्रयत्न
           इबहाम- चुपके से कहना