Search This Blog

Saturday, January 16, 2016

इंतिहा कर दी

उनकी दिल्लगी एहसान है
हमारी मुहब्बत पर
जिसने ग़म की दौलत
हमें अदा कर दी
उसने रोते-रोते सज़ा दी थी
हमने हँसते-हँसते इंतिहा कर दी!!!