Search This Blog

Wednesday, January 6, 2016

ये तृष्नगी कैसी.........

ये तृष्नगी ऐसी है अये खुदा
पहले एक क़तरा काफी था जीने के लिए
अब समुन्दर से भी जी नहीं भरता!!