Search This Blog

Friday, January 29, 2016

गैर की निगाहों में है -----

ज़िंदगी से कोई शिकवा नहीं है
कि तू किसी और की बाँहों में है
शायद हमारी मोहब्बत में ही कमी होगी
कि तू किसी गैर की निगाहों में है !!