Search This Blog

Friday, February 5, 2016

उनकी ख़्वाहिशों के चादर में -----

उनकी ख़्वाहिशों के चादर में
सिमटी है ज़िंदगी
समझना मुश्किल है
आखिर वो चाहते क्या हैं !!