Search This Blog

Friday, August 12, 2016

वतन तेरे लिए

                                                           
ऐ मेरे प्यारे वतन मेरे वतन
तुझसे मुहब्बत है सनम
तू मेरी जिस्म मेरी जान है
तू मेरी रूह मेरा ईमान है
तुझपे करू कुर्बान अपना हर जनम

                                  
                                              
तेरी आबरू पे कभी आ आय तो
बाँध लूँ मैं अपने सिर पे कफ़न
निकलूँ तेरे रक्षक जाते जिधर
लब पे हो जय हिन्द मेरा माद्रे वतन

                                  

                                                 
क्या करूँ तेरी धरती स्वर्ग हो जाये अब              
क्या लिखूँ तेरा दर्द समझा जाय अब
शर्मिंदा हूँ तुझसे
नज़रें मिलाने से भी मैं
है नहीं बर्दाश्त ये
अपमान  तेरा हो कहीं
गूँजे ना जहां जय हिन्द वन्दे मातरम्
वो जगह मानचित्र में ना हो कहीं

                                  

                                  
एक वक़्त था जब साथ मिल                           
तेरे लिए लड़ते थे हम
एक वक़्त ये भी आ गया
तेरे टुकड़े बाँटने को बेकल है हम
हमे माफ कर नहीं दे सके माँ तुझे
सकून का एक भी पल

                             

वो लाल तेरे ही तो थे जो
सीने पे गोली खाते थे
नदियाँ लहू की बन जाते थे
कहते थे भाई -भाई हैं
एक माँ के सब हैं लाल हम
वो लाल भी अब तेरे बँट रहें
अब खून के प्यासे है हम
कितना सहेगी तू ओ बुढ़ी माँ
ना कर यूँ  आँखे नम

                                
संतोष रख बहुत है अभी भी
मातृभूमि  तेरे भक़्तजन
तेरे इक इशारे पे वो माँ
फिर बाँध लेगे सिर पे कफ़न
मुझको भी इक मौका देना
ना देखना मेरा अबलापन
जब तक ये धड़कन चल रही
हर इक साँस से गूँजेगी
जय हिन्द वन्दे मातरम् जय हिन्द वन्दे मातरम्
जय हिन्द वन्दे मातरम् जय हिन्द वन्दे मातरम्
ऐ मेरे प्यारे वतन मेरे वतन !!