Search This Blog

Tuesday, August 23, 2016

लोग मिलते है यहाँ पत्थर के


                                   

दिल में रखना मुहब्बत सब से
फिर भी चलना जरा सँभल कर के
लोग रहते हैं यहाँ पत्थर के
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

पल में अपना बना लेते हैं लोग
पल में बेगाना भी कर देते हैं लोग
ऐसे देते हैं घाव उल्फ़त के
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

दिल में कुछ और बाहर कुछ
जुबां पे रहती है गुफ़्तगू कुछ
कैसे समझे निगाहें मक़सद ये
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

जिससे बाँटे दर्द वही हँसते हैं
पीठ पीछे से वार करते हैं
इससे बेहतर मर जाये खज़र से
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

दोस्त बनकर भी दगा देते हैं
अपने बनकर भी सज़ा देते हैं
किसपे अब हो यकिन अंदर से
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के

लब सिल जायें तब भी क्या हो
लफ़्ज़ जाहिर हो तब भी क्या हो
कोई नहीं सँवारता ज़िंदगी बंजर से
लोग मिलते हैं यहाँ पत्थर के