Search This Blog

Tuesday, January 12, 2016

बेज़बान

ज़ुबां थी ऽऽऽऽ
खोली नहीं तो ऽऽऽ
बेज़बान समझ बैठे
हमें तो इतना ही देखना था
सताने की ताकत बड़ी है या सहने की!!!